इन दो महिलाओं ने तोड़ी इस हिंदू मंदिर की 800 साल पुरानी परंपरा, देखिए वीडियो

courtsey-google images

विवादों में घिरे सबरीमाला मंदिर में बुद्धवार को दो महिलाओं ने प्रवेश कर लिया.इन महिलाओं की उम्र 10-50 वर्ष की उम्र की बीच की बताई जा रही है. सबरीमाला मंदिर के इतिहास में ये पहली बार है, जब इन महिलाओं ने इस हिंदू मंदिर के दर्शन किए हैं. सबरीमाला में स्थित ये मंदिर भगवान अय्यपा का है. बता दें कि मंदिर में 10-50 उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध था. जिसपर, हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय ने संज्ञान लेते हुए मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को कानूनी मान्यता दे दी थी.

courtsey – google images

मंदिर परिसर में प्रवेश को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि लैंगिग आधार पर महिलाओं को मंदिर परिसर में प्रवेश से नहीं रोका जा सकता है.  पुलिस प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक मंदिर में प्रवेश करने वाली दोनों महिलाओं में एक महिला का नाम बिंदू और दूसरी महिला का नाम कनकादुर्गा हैं. महिलाओं के प्रवेश का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें इन महिलाओं को पुलिस की सुरक्षा में मंदिर के उत्तर दिशा से 3 बजकर 48 मिनट पर प्रवेश करते हुए देखा जा सकता है.

वहीं, उन्हें 3 बजकर 50 मिनट पर सोपानम मंदिर से मंदिर से बाहर जाते हुए देखा गया. कुछ दिनों पहले दोनों महिलाओं ने मंडलम तीर्थयात्रा के दौरान मंदिर परिसर में घुसने का प्रयास किया था. सबरीमाला के समर्थकों और संघ परिवार के कार्यकर्ताओं के विरोध के चलते उनकों वापस जाना पड़ा.

courtsey-google images

महिलाओं के मंदिर परिसर में जाने के बाद शुद्धिकरण

मंदिर परिसर के पुजारी कंडारारु राजीवरारु ने बताया कि मंदिर को शद्धिकरण के लिए बंद किया गया है.मंदिर परिसर को सुबह 10 बजकर 35 मिनट पर बंद कर दिया था. उन्होंने कहा कि धार्मिक परंपराएं और मान्यताओं ने महिलाओं को कभी सबरीमाला में जाने की अनुमति नहीं दी. सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश का हमारा विरोध उनके साथ किसी प्रकार का भेदभाव करना नहीं है.

courtsey-google images

कुछ आयु वर्ग की महिलाओं को छोड़ दें, तो मंदिर परिसर में महिलाओं के प्रवेश पर कोई प्रतिबंध नहीं है. इसके साथ रही उन्होंने कहा कि मुख्य पुजारी होने के नाते मैं सबरीमाला में अनुष्ठानिक प्रथाओं का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध हूं. वहीं, सीएम पिनरई विजयन ने महिला श्रद्धालुओं को पूरी सुरक्षा देने के निर्देश भी जारी कर दिए हैं.

jitendra pal:
Leave a Comment

This website uses cookies.