एस्मा : यूपी में 6 महीने तक कोई सरकारी कर्मचारी नहीं कर सकेंगे हड़ताल

दिल्ली : योगी सरकार ने लगाया एस्मा :  उत्तर प्रदेश में पुरानी पेंशन बहाली के चलते कर्मचारियों व शिक्षकों की हड़ताल पर फिलहाल योगी सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है। योगी सरकार ने यह प्रतिबंध यूपी एस्मा (उप्र अत्यावश्यक सेवाओं का अनुरक्षण अधिनियम-1966) के तहत लगाया है। इसके बाद अगले 6 महीने तक कोई भी सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जा सकेगा या सरकार के खिलाफ प्रदर्शन नहीं कर सकेगा। यह अधिसूचना यूपी के मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने सोमवार रात को जारी की।

सभी सरकारी कर्चारियों को भी दिए गए निर्देश

इस अधिसूचना के जरिए राज्य के मुख्य सचिव ने सभी अपर मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों, सचिवों, मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को इस बात से आगाह किया है। वहीँ मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को यह भी निर्देश दिए हैं, कि सभी द्वारा इन नियमावली का आचरण करना अनिवार्य है। न तो कोई कर्मचारी इन नियमों के तहत हड़ताल में शामिल होंगे और न इसमें अन्य की मदद करेंगे। इसी प्रकार से सेवा संघ भी सरकारी कार्यों में बाधा नहीं डालेंगे और अपने किसी भी सदस्य को हड़ताल करने जैसे तरीके अपनाने के लिए भी नहीं उकसाएंगे।

Uttar-Pradesh-Chief-Minister-Yogi-Adityanath-esma
courtsey-google images

उल्लंघन करने पर होगी 1 साल की जेल

बता दें कि एस्मा के अनुसार डाक सेवाओं, रेलवे, हवाई अड्डों समेत विभिन्न आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारी आते हैं। एस्मा लागू होने के बाद उस दौरान होने वाली हड़तालों को अवैध माना जाता है। वहीँ एस्मा के इस नियम का उल्लंघन करने वाले के लिए एक साल तक की सजा का प्रावधान होता है।

doctors_up_strike_Esma
courtsey-google images

इसलिए लागू किया गया एस्मा!

योगी सरकार द्वारा अचानक लिए गए इस फैसले के पीछे कई सारे कयास लगाए जा रहे हैं। दरअसल बताय जा रहा है कि कई सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर जाने वाले थे, जिससे राज्य सरकार की व्यवस्था को नुकसान पहुंच सकता था। गौरतलब है कि 2019 में होने वाले लोक सभा चुनाव बेहद नजदीक हैं और ऐसे में सीएम योगी आदित्यनाथ राज्य में ऐसा माहौल बिलकुल भी नहीं चाहेंगे। वहीँ लोक चुनावों के साथ-साथ राज्य में बोर्ड परीक्षाओं का भी समय है। जिसके चलते राज्य में हालात और बिगड़ सकते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *