IAC Vikrant : IAC विक्रांत पर तैनात हुए स्वदेशी एयरक्राफ्ट, मोदी बोले-“कोई भी चुनौती हो हमारा उत्तर विक्रांत”

IAC Vikrant

IAC Vikrant : भारत की ताक़त लगातार बढ़ रही है। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार देश को मज़बूत करने का काम कर रहे हैं। अभी हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि कोई देश भारत की तरफ आंख उठाकर नहीं देख सकता है अगर ऐसा करने की कोई हिम्मत करेगा तो वो उसके परिणाम भी भुगतेगा। आज हम बात कर रहे हैं IAC विक्रांत की जो इंडियन नेवी को मिल गया है। IAC विक्रांत पर अभी 3 एयरक्राफ्ट्स तैनात किए गए हैं। इसमें पहला मिग-29 फाइटर जेट दूसरा रोमियो हेलिकॉप्टर और तीसरा है कामोव हेलिकॉप्टर।

30 से 35 एयरक्राफ्ट्स और तैनात किए जाएंगे

इन तीनों फाइटर एयरक्राफ्ट्स से भारतीय नौसेना को निगरानी करने में जासूसी करन में सहूलियत होगी। इसके साथ-साथ ये पनडुब्बियों से भी बचाव करने में सक्षम होंगे। अमेरिका से मंगाया गया MH-60R ROMEO हेलिकॉप्टर को तैनात किया गया है। सब मिलाकर 30 से 35 एयरक्राफ्ट को तैनात किया गया है। IAC विक्रांत भारत का सबसे ख़तरनाक फाइटर जेट्स है। इसे मिग-29 मिकोयान को तैनात किया गया है।

ये एक पायलट से उड़ने वाला फाइटर जेट है। इसकी लंबाई 17.32 है और इसमें 3500 किलो ईंधन आता है। ये फाइटर जेट 2400 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ सकता है।इसकी रेंज की बात करें तो 2100 किलोमीटर है, ये 18 हज़ार मीटर की ऊंचाई तक उड़ सकता है। इस फाइटर जेट की खास बात ये है कि इसमें रॉकेट्स, बम और मिसाइल को लगाया जा सकता है।

हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलें…

राफेल का नौसैनिक वर्ज़न राफेल की तरह ही काफी भरोसेमंद है। इसमें कॉम्बैट रेडियस 3700 किलोमीटर है। इसमें 3 तरह की मिसाइलों को लगाया जा सकता है। ये मिसाइलों को हवा में मार देने भी सक्षम है। अगले जेट की बात करते हैं तो वो है रोमियो हेलिकॉप्टर्स। ये MH60R मल्टी रोल हेलिकॉप्टर में दर्जनों सेंसर्स होते हैं और रडार भी। ये दुश्मनों पूरी जानकारी देते हैं। इसको तीन से चार लोग मिलकर उड़ाते हैं और पांच लोग अधिकतम बैठ सकते हैं। IAC विक्रांत के लिए भारतीय नौसेना और भी बढ़िया एयरक्राफ्ट ढूढ़ रही है। जो बेहतर, तेज़ और ख़तरनाक हों।