यूपी को मिली 150 BS-6 बसों की सौगात, जानिए इन बसों में क्या है खास

bs6 bus upsrtc

upsrtc : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी के लोगों को एक बड़ी सौगात दी है। जिसमें यूपी को 150 बीएस 6 बसों दी गई है। मुख्यमंत्री योगी ने अपने आवास से 150 बीएस-6 बसों को हरी झंडी दिखाई है। उत्तर प्रदेश के हर ज़िले को दो नई बसें दी गई हैं। अब जिन ज़िलों में बसों की संख्या कम है और लोगों को आने जाने में समस्या होती है उनके लिए आसानी हो जाएगी।

BS-6 बसों से होगा कम प्रदूषण

नई बसों बीएस 6 की बसें होगी। बीएस-6 इंजन से प्रदुषण कम होता है। अगर हम बात करें बीएस4 की तो इससे निकलने वाला धुआं काफी घातक होता है जो काफी बीमारियों को भी फैलाता है। ऐसे में बीएस-6 बसों का चलना काफी अच्छा होगा। बीएस-6 के इंजन से बीएस-4 की तुलना में लगभग पांच गुना कम सल्फर होता है। जिसकी वजह से देश के बड़े शहरों में अब बीएस-6 गाड़ियों ही चलाया जा रहा है।

इन जगहों पर हुआ बस अड्डों का लोकार्पण और शिलान्यास

सीएम योगी ने बरेली, झांसी, अलीगढ़ के ड्राइविंग ट्रेंनिंग एंड टेस्टिंग इंस्टीट्यूट, बरेली के ऑटोमेटेड ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक, फिरोज़ाबाद के सारथी हॉल अलीगंज बस अड्डा, गाज़ीपुर बस अड्डा, नौझील बस अड्डा और जयसिंह पुरा-मथुरा बस अड्ढा, काठ बस अड्डा मुरादाबाद का लोकार्पण किया है। हैदगगढ़ बस अड्डा,बाराबंकी और सिग्नेचर ग्रीन सिटी बस अड्डा कानपुर का भी लोकार्पण किया। इसके साथ ही बरेली बस अड्डा और गिलौला बस अड्डा का शिलान्यास किया है।

हर जगह रेल कनेक्टविटी ज़रूरी नहीं-सीएम योगी

सीएम योगी ने अपने एक संबोधन में कहा था कि बस अड्डों को हवाई अड्डों की तरह बनाया जाएगा। सीएम ने ये भी कहा था कि ये जरूरी नहीं है कि हर जगह रेल कनेक्टिविटी हो। गांव के लोगों के लिए बसें प्रयाप्त हों। अगर वो कहीं कमाने खाने जाते हैं वहां रेल कनेक्टविटी नहीं हो तो वो बसों के माध्यम से यात्रा कर पाएं।