Misrilal Rajput : भोपाल के किसान ने ऊगाई दुनिया की सबसे महंगी भिंडी, कीमत जानकर हैरान रह जाओगे

Misrilal Rajput : ‘ओफ्फो मां, आज फिर से भिंडी’, लगभग हर घर की यही कहानी है। आए दिन सभी के यहां इस सीजन में भिंडी बन ही जाती है। अब अगर वही सादी भिंडी बनेगी तो इंसान का मन बोर तो होगा ही और भिंडी का वही हरा रंग देखकर भी मन में भिंडी को खाने को लेकर कोई उत्साह ही नहीं रह जाता है। ऐसे में कई लोग तो भिंडी को लेकर ख्वाब भी देखने लगते हैं। उनके ख्वाब में भिंडी हरे नहीं बल्कि अलग अलग रंगों की नज़र आती है। वैसे तब क्या हो जब भिंडी सच में हरे रंग की न होकर किसी और रंग की हो? क्या इस बारे में कभी किसी ने सोचा है?

हम आपकी सोच से आगे निकलकर एमपी के एक किसान से कुछ अलग ही कर दिखाया है। एमपी के इस किसान ने हरी नहीं बल्कि लाल भिंडी को उगा दिया है। इसकी सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात ये है कि जिस तरह से ये भिंडी सबसे अलग है बिल्कुल उसी तरह से इस भिंडी की कीमत भी सबसे अलग है। इस भिंडी की कीमत इतनी ज्यादा हाईफाई है कि कीमत को जानने के बाद लोगों के होश उड़ जा रहे हैं।

Misrilal Rajput : भोपाल के किसान ने ऊगाई दुनिया की सबसे महंगी भिंडी, कीमत जानकर हैरान रह जाओगे 1

ये किसान मध्य प्रदेश के भोपाल शहर के है। यहां का एक जिला है खजुरी कलान, यहीं पर एक किसान रहते हैं जिनका नाम है मिश्रीलाल राजपूत। इन्होंने ही लाल भिंडी को उगाकर एक अजूबा कर दिखाया है। इस समय राजपूत एक ट्रेंडिंग टॉपिक बन चुके हैं। राजपूत और उनकी लाल भिंडी सोशल मीडिया पर काफी धूम मचा रही है। उनकी इस भिंडी पर लोग तरह तरह के कमेंट्स भी कर रहे हैं।

मिश्रीलाल ने जो भिंडी उगाई है उसकी कीमत बाकी भिंडियों की तुलना में 5 से 7 गुना ज्यादा है। अगर बात करें कुछ मॉल्स की तो वहां पर इस भिंडी की कीमत 300 से 400 रुपये है वो भी बस 250 ग्राम या 500 ग्राम की। अगर किसी को 1 किलो भिंडी लेनी है तो उसको काजू कतली की कीमत चुकानी पड़ेगी। यानी 1 किलो भिंडी 800 रुपये की मिलेगी। मिश्रीलाल के मुताबिक ये जो भिंडी उन्होंने उगाई है, उसका खाने में स्वाद भी काफी बेहतरीन है जिसकी वजह से लोग इसको काफी पसंद भी कर रहे हैं।

Misrilal Rajput : भोपाल के किसान ने ऊगाई दुनिया की सबसे महंगी भिंडी, कीमत जानकर हैरान रह जाओगे 2

मिश्रीलाल से जब पूछा गया कि उन्हें भिंडी को किस तरह से उगाया है तो उन्होंने बताया कि सबसे पहले उन्होंने वाराणसी के रिसर्च इंस्टीट्यूट से 1 किलो बीज खरीदे। उन्होंने इस बीज को जुलाई के फर्स्ट वीक में बो दिया। इसके बाद करीब 40 दिन बाद भिंडी पौधों में उगने लगी। इस भिंडी की एक खास बात ये भी है कि इस भिंडी की उगाई में किसी भी तरह के कीटनाशक का प्रयोग नहीं किया गया है।

ऐसा माना जाता है कि जो लाल भिंडी होती है उसमें पौष्टिकता हरी भिंडी के मुकाबले बहुत ज्यादा होती है। जिन लोगों को दिल की बीमारी, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज आदि जैसी समस्या है, वो लोग अगर इसका सेवन करें तो उनके लिए ये फायदेमंद साबित हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *