Lucknow–Kanpur Expressway : लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य शुरू, मुआवजा न मिलने पर किसान परेशान

Lucknow–Kanpur Expressway

Lucknow–Kanpur Expressway : लखनऊ और कानपुर के लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। जानकारी के मुताबिक कानपुर और लखनऊ के बीच एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। इस एक्सप्रेस-वे के लिए 32 गांवों की 380 हेक्टेयर ज़मीन का अधिग्रहण भी कर लिया गया है। एक्सप्रेस-वे का निर्माण साल 2024 में जून तक पूरा होने की उम्मीद है। लेकिन अभी मिली जानकारी के मुताबिक लगभग साल भर हो गया है और जिन किसानों की ज़मीन ली गई है उनको मुआवजा नहीं दिया गया है ऐसे में किसानों ने गुस्से में कार्य को रुकवा दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक किसानों को जल्द मुआवजा देने का अश्वासन दिया गया है।

लखनऊ से कानपुर की दूरी मात्र 45 मिनट में होगी पूरी

जब ये एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो जाएगा तो कानपुर से लखनऊ की दूरी मात्र 45 मिनट की रह जाएगी। अभी भूमि अधिग्रहण के मामले में कुछ किसानों को मुआवजा नहीं मिल पाया जो कि बहुत जल्द ही उनके खातों में भेज दिया जाएगा।

उससे पहले ही किसानों ने इस एक्सप्रेस-वे का काम रोक दिया है। किसानों की ज़मीन का बैनामा हुए एक साल का समय हो गया है। लेकिन अभी तक किसानों को मुआवजा नहीं मिला है। किसानों ने परेशान होकर निर्माण कार्य को रोक दिया है। कई किसानों ने भुगतान के लिए चेतावनी भी दी है कि आंदोलन भी कर सकते हैं।

इन गांवों से गुजरेगा एक्सप्रेस-वे

हसनगंज तहसील के हिनौरा, हसनापुर, बजेहरा, पुरवा तहसील के तूरीछविनाथ, रायपुर, मैदपुर, मनिकापुर, तूरीराजासाहब, बछौरा, सरइया, कांथा, कुदिकापुर, बीकामऊ, सहरावां, काशीपुर। सदर तहसील के मोहिद्दीनपुर, बेहटा, अमरसस, शिवपुरग्रंट, बंथर, जगेथा, नेवरना, कड़ेर, पतारी, आंटा, कोरारीकला, करौंदी, गौरीशंकरपुर ग्रंट, पाठकपुर, जरगांव, तौरा व अड़ेरुवा के गांवों से ये एक्सप्रेस-वे होकर गुजरेगा।

किसानों का जल्द होगा मुआवजे का भुगतान

कुछ ज़मीन को बुलडोजर के माध्यम से बराबर किया गया है। PNC ने तौरा के पास यार्ड को बनाया है। अभी मामला किसानों के मुआवजे का चल रहे हैं। कार्य को रोकने के बाद पीएनसी के अधिकारी उदित राज ने ये जानकारी दी है कि किसानों का मुआवजा जल्द ही दे दिया जाएगा।