Lockdown Marriage : कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के परिवार की शादी में सामुदायिक दूरी की उड़ी धज्जियां, फोटो खिंचाते नजर आए लोग

Lockdown Marriage : देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। लोगों से सामुदायिक दूरी बरतने की अपील की जा रही है। सामुदायिक दूरी बनी रहे इसके लिए देश में 19 दिन का लॉक डाउन भी बढ़ा दिया गया। लेकिन लॉकडाउन के दौरान सामुदायिक दूरी का उल्लंघन करने वालों की कमी नहीं है। सामुदायिक दूरी का उल्लंघन करने वाले आम लोग ही नहीं बल्कि नेता भी खूब नजरअंदाजी कर रहे हैं।

कर्नाटक में लॉक डाउन के दौरान ही एक हाई प्रोफाइल शादी की गई। शादी देश के पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के पोते निखिल कुमार स्वामी की थी। (Lockdown Marriage) शादी कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से लगभग 28 किलोमीटर दूरी पर बने उनके फार्म हाउस में हुई। इस शादी समारोह में कुछ खास ज्यादा मेहमान तो नहीं थे लेकिन यहां सामुदायिक दूरी को कायम रखा गया ऐसा भी नहीं हुआ। शादी में मेहमान तो कम आए लिन जितने लोग थे उन्होंने भी सामुदायिक दूरी का पालन नहीं किया।

दोनों पक्षों के लोग कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के फार्म हाउस में ठहरे थे। जहां खूब फोटो सेशन हुआ। लेकिन न तो किसी ने मास्क पहना औऱ न ही सामुदायिक दूरी का पालन किया। बता दें निखिल अभिनेता से हाल ही में नेता बने हैं जिन्होंने पिछले साल ही लोकसभा चुनाव मांड्या से लड़ा था हालांकि निखिल हार गए थे। लेकिन जिस तरह से शादी समारोह (Lockdown Marriage) में सामुदायिक दूरी को नजरअंदाज किया गया उस पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

H. D. Kumaraswamy on Lockdown Marriage

इसपर पूर्व सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि अगर (Lockdown Marriage) कार्यक्रम घर पर होता है तो सामुदायिक दूरी मेंटेन करना मुश्किल हो जाता है। इसीलिए फार्म हाउस पर शादी हुई। कुमारस्वामी ने सफाई देते हुए कहा कि शादी का फैसला डॉक्टर्स से सलाह के बाद ही लिया गया था। जिसमें सिर्फ उनके परिवार के लोग ही शामिल हुए थे।

H. D. Kumaraswamy on Lockdown Marriage
courtsey-google images

कुमारस्वामी ने शादी में परिवार के ही 60-70 लोगों के शामिल होने का दावा किया। लेकिन इस पर कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री ए. नारायण ने प्रतिक्रिया दी है। ए. नारायण ने कहा कि शादी के दौरान अगर किसी भी तरह से लॉक डाउन या सामुदायिक दूरी का उल्लंघन किया गया तो पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

बता दें कि इस समय कर्नाटक में भी कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 300 पार है। वहीं अभी तक 13 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। अब ऐसे में छोटी सी भी लापरवाही बड़ी मुसीबत का कारण बन सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *