Gorakhpur Shamli Expressway : गोरखपुर से शामली के बीच बनेगा इतना लंबा एक्सप्रेस-वे, लड़ाकू विमानों की भी हो सकेगी लैंडिंग

gorakhpur shamli expressway

Gorakhpur Shamli Expressway : गोरखपुर से शामली ज़िले तक बनने वाले एक्सप्रेस-वे सिर्फ यातायात के लिए नहीं होगा, इसपर लड़ाकू विमान भी उतरेगा। आपको बता दें कि लगभग 700 किलोमीटर तक बनने वाले इस एक्सप्रेस-वे पर हवाई पट्टी बनेगी।

इस पर लड़ाकू विमान भी उतरेंगे। चीन की सीमा पास में होने से ये हवाई पट्टी काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है।भारत और नेपाल के बीच तराई क्षेत्र से गुज़रने वाले 700 किमी. लंबे गोरखपुर-शामिल एक्सप्रेस-वे सिर्फ यातायात के लिए नहीं बल्कि अन्य कई मायनों में खास और महत्वपूर्ण होने वाला है। इसपर हावई पट्टी बनाई जाएगी।

बनाई जाएगी हवाई पट्टी

NHAI यानि की भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने सड़क के लिए अपना सर्वे शुरू कर दिया है। पहले चरण में ऐसे स्थान की तलाश की जा रही है जहां 3 किमी. एकदम सीधी सड़क का निर्माण किया जा सके। इससे हवाई पट्टी बनाने में आसानी होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस एक्सप्रेस-वे पर इसको बनाया जा रहा है।

Photo by Reynier Carl on Unsplash

NHAI की चेयरपर्सन अलका उपाध्याय ने कुछ समय पहले सीएम योगी मुलाकात की थी। उन्होंने इस पूरे प्रोजेक्ट की जानकारी मुख्यमंत्री को दी थी। सीएम योगी ने सुझावो दिया था कि एक्सप्रेस-वे पर कुछ बदलाव किए जाएं और भारत-नेपाल के बीच तराई क्षेत्र से इसको गुज़ारा जाए। मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद NHAI ने एक्सप्रेस-वे का सर्वे पूरा कर दिया।

इन ज़िलों से होते हुए जाएगा एक्स्प्रेस-वे

एक्सप्रेस-वे की शुरुआत गोरखपुर ज़िले के जंगल कौड़िया या कैंपियरगंज से होगी। एक्सप्रेस-वे की लागत कम करने के लिए इसे ग्रीन बेल्ट से निकाला जाएगा। इस बात का पूरा ध्यान रखा जाएगा कि रास्ते में नदी-नाले कम आएं। ये एक्सप्रेस-वे 90 से 100 किमी. चौड़ा हो सकता है। इस एक्सप्रेस-वे के बनने के बाद यूपी के सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, संतकबीर नगर, बहराइच व अन्य ज़िलों से गुज़रने के लिए सर्वे का किया जा रहा है।

इन ज़िलों से होते हुए ये एक्सप्रेस-वे लखनऊ, सीतापुर, हरदोई, शाहजहांपुर, बदायूं, बरेली, रामपुर, मुरादाबाद, संभल, अमरोहा, बिजनौर, मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर को जोड़ेते हुए शामली ज़िले तक जाएगा। जानकारी के लिए आपको बता दें कि तराई एक्सप्रेस-वे के सर्वे का काम पूरा हो चुका है। अभी इसे गोरखपुर में कहां से शुरू किया जाए इस बात मंथन चल रहा है।