Credit card Trick : इस ट्रिक से आसानी से बना सकते हैं क्रेडिट कार्ड

Credit card Trick  : इस ट्रिक से आसानी से बना सकते हैं क्रेडिट कार्ड

credit card trick : कभी-कभी हमारी अचानक जरूरतों के लिए हमें लोन लोन का सहारा लेना पड़ता है. ऐसे में क्रेडिट-कार्ड को हम बेहतर विकल्प के तौर पर देखते हैं. यहीं वजह है कि हम तुरंत ही क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर देते हैं. अगर आपकी नौकरी है तो क्रेडिट कार्ड बनाना बेहद आसान होता है. लेकिन नौकरी ना होने पर क्रेडिट कार्ड बनाना काफी मुश्किल हो जाता है.

दरअसल, बैंक और क्रेडिट कार्ड कंपनियां सबसे पहले आवेदक की आमदनी के मुख्य श्रोत के बारे में जानकारी जुटाती है. इस दौरान इन कंपनियों को ITR, सैलरी स्टेटमेंट आदि दस्तावेजों का प्रूफ दिखाना पड़ता है. ऐसे में समस्या उन लोगों के लिए आती है जिनकी नौकरी नहीं होती या फिर जो स्वरोजगार करते हैं. नौकरी ना होने पर क्रेडिट कार्ड बनवाना बेहद मुश्किल हो जाता है.

आपको बता दें कि नौकरी ना होने पर क्रेडिट कार्ड बनना मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं है. क्रेडिट कार्ड की शर्तों को पूरा कर आप आसानी से लोन उठा सकते हैं. इस कड़ी में हम जानेंगे कि किस तरह के क्रेडिट कार्ड हम लोग बनवा सकते हैं.

स्टैंडर्ड क्रेडिट कार्ड (Standard credit card)

अगर आप नौकरी नहीं करते हैं और आप क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करना चाहते तो सबसे पहले विकल्प के तौर पर आप स्टैंडर्ड क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसको अप्लाई करने के लिए आपको आपकी आमदनी का प्रूफ देना होगा. इसके लिए आप बैंक खाते में म्यूचुअल फंड के डिविडेंड, प्रोफेशनल फीस आदि आमदनी के तौर पर दिखा सकते हैं.

credit card for jobless
courtsey-google images

इन सारे जरूरी दस्तावेजों को बैंक में वेरीफाई करा कर क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं. बैंक दस्तावेजों को इसलिए जमा करवाते हैं ताकि वो ये पता लगा सके की उपभोक्ता क्रेडिट कार्ड की बकाया राशि को समय पर जमा करा सकेगा या नहीं. नौकरी ना होने पर आप इस तरह के कार्ड को ऑनलाइन नहीं बना सकते हैं. आपको इसके लिए आपकी बैंक की शाखा में जाना होगा जहां पर पूरे दस्तावेज जमा कराने के बाद आप लोन के लिए आवेदन कर पाएंगे।

सिक्योर्ड क्रेडिट-कार्ड (Secured credit card)

अगर आप नौकरी नहीं कर रहे हैं और आप लोन लेना चाहते हैं, तो सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड आपके लिए दूसरे विकल्प के तौर पर काम कर सकता है। इस कार्ड को बैंक आपकी जमा पूंजी के आधार पर मुहैया करवाता है।

इस तरह के क्रेडिट कार्ड आमतौर पर फिक्स्ड डिपॉजिट (जमा पूंजी) के 70 से 80 फीसदी तक बनाए जाते हैं. अगर आपके क्रेडिट क्रेडिट स्कोर बहुत अच्छा है तो बैंक आपको जमा पूंजी का 100 फीसद तक की रकम मुहैया करवा सकती है.

ऐड-ऑन क्रेडिट कार्ड (Add on Credit Card)

अगर आपके पास ना ही इनकम प्रूफ है और ना ही फिक्स डिपाजिट यानी कोई भी जमा पूंजी आपके पास नहीं है. तब भी आप अपना क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं। ऐसे में आप एड ऑन या सप्लीमेंट्री क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इस कार्ड को बनवाने के लिए आपके परिवार के किसी सदस्य के पास पहले से ही प्रायमरी स्टैंडर्ड क्रेडिट कार्ड होना चाहिए.

ये क्रेडिट-कार्ड छात्रों और घर की महिलाओं के लिए बनाए जाते हैं. इन्हें प्राइमरी क्रेडिट-कार्ड के क्रेडिट के अनुसार जारी किया जाता है. ये कार्ड-होल्डर के जीवनसाथी, माता-पिता, भाई-बहन और बच्चों के लिए उपलब्ध करवाए जाते है. बता दें, 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए ही इन्हें दिया जाता है.

jitendra pal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *