मां की मौत के बाद बेटी ने लिखी चिठ्ठी, ‘मां का मोबाइल फोन जिसके पास हो उसे लौटा दीजिए, उसमें यादें हैं’

देश में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है. इस लहर में 2-3 लाख लोग आए दिन कोरोना की चपेट में आ रहे हैं. इस दौरान कई ऐसी कहानियां निकलकर सामने आ रही हैं जो दिल को झकझोर कर रख देती हैं. इस महामारी के लोग अपने परिजनों, रिश्तेदारों और दोस्तों को खो रहे हैं. ऐसे में सोशल मीडिया पर 9 साल की एक बच्ची का एक खत खूब वायरल हो रहा है. इस खत में बच्ची ने लोगों से मदद की गुहार लगाई हैं. बच्ची ने जो बातें इस खत में लिखीं हैं, उसे जानकर आपकी भी आंखें नम हो जाएंगी.

मां का कोरोना से हुआ था निधन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सोशल मीडिया में वायरल हो रही ये लड़की कर्नाटक के कोडागु जिले की है. बच्ची का नाम ऋतिकशा बताया जा रहा है. इस बच्ची ने अस्पताल प्रशासन और पुलिस प्रशासन से एक खत लिखकर अपनी मां का फोन तलाश करने की अपील की है. बता दें कि ऋतिकशा की मां को कुछ सप्ताह पहले कोरोना हो गया था. इसके बाद महिला की तबियत ज्यादा खराब होने लगी.

मां की मौत के बाद बेटी ने लिखी चिठ्ठी, 'मां का मोबाइल फोन जिसके पास हो उसे लौटा दीजिए, उसमें यादें हैं' 1

जिसपर परिजनों ने अस्पताल में भर्ती करा दिया. बच्ची के अनुसार 16 मई को उसकी मां की मौत हो गई थी. इस दौरान अस्पताल में किसी ने ऋतिकशा की मां का मोबाइल फोन गायब कर दिया. जिसमें मां, बेटी और परिवार की काफी यादें जुड़ीं हुईं हैं.

ऋतिकशा ने खत में क्या लिखा है ?

मां की मौत के बाद ऋतिकशा ने मोबाइल फोन तलाशने का काफी प्रयास किया. लेकिन जब नहीं मिल सका तो सोशल मीडिया की मदद ली. सोशल मीडिया में ऋतिकशा ने एक खत साझा किया है.

इस खत में उन्होंने लिखा है कि ‘बीते दिनों मेरे पापा, मेरी मम्मी और मैं कोरोना वायरस से ग्रस्त हो गए थें। मम्मी की तबीयत बहुत खराब हो गई थी जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए मेडिकेरी कोविड हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया था। मैं और मेरे पापा होम क्वारंटाइन हो गए थे और मम्मी अस्पताल में भर्ती हो गई थीं. मेरे पापा एक दिहाड़ी मजदूर हैं और इस वक्त पड़ोसियों की मदद से हमारा गुजारा चल रहा है।

मां की मौत के बाद बेटी ने लिखी चिठ्ठी, 'मां का मोबाइल फोन जिसके पास हो उसे लौटा दीजिए, उसमें यादें हैं' 2

16 मई को मेरी मम्मी की मौत हो गई थी और वो हमेशा के लिए हम लोगों से दूर चली गईं थीं. इस दौरान मेरी मम्मी के पास जो मोबाइल था, वो किसी ने ले लिया। मैंने अपनी मम्मी को खो दिया और मेरी मम्मी के साथ जो यादें जुड़ी थी वो सारी फोन में मौजूद थीं. मेरी मम्मी के जाने के बाद मैं अनाथ हो गईं हूं. मैं आप सभी से हाथ जोड़कर प्रार्थना करती हूं कि जिस किसी के भी पास मेरी मम्मी का मोबाइल है, या उसे मिला है, वो प्लीज वापस कर दें. वो फौन मेरी मां को मेरे साथ रहने का सदैव अहसास दिलाता रहेगा’.

फोटो और वीडियो फार्मेट पर फोन में मौजूद हैं परिवार की यादें

ऋतिकशा के पिता नवीन कुमार ने बताया कि मेरी बेटी उस फोन को पाना चाहती है. इस फोन पर हमारे छोटे से परिवार की काफी यादें फोटो और वीडियो के तौर पर मौजूद थीं. पिता ने आगे बताया कि कोरोना के समय बेटी स्कूल भी नहीं जा पा रही उसकी पढ़ाई लिखाई भी इसी फोन से हुआ करती थी. अपनी मां के साथ वो इस मोबाइल फोन से ऑनलाइन क्लास लिया करती थी. ऋतिकशा की मां के इलाज में इतना रुपया खर्च हो गया है कि अभी मैं नया फोन लेने की स्थिति में भी नहीं हूं.

मां की मौत के बाद बेटी ने लिखी चिठ्ठी, 'मां का मोबाइल फोन जिसके पास हो उसे लौटा दीजिए, उसमें यादें हैं' 3

फोन की तलाश में जुटी कर्नाटक पुलिस

ऋतिकशा का खत जब सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा तो कर्नाटक पुलिस ने भी इस मामले का संज्ञान लिया. कर्नाटक के डीजीपी प्रवीण सूद ने बच्ची के खत का सोशल मीडिया साइट ट्विटर में रिप्लाई दिया है उन्होंने कहा हैं कि कर्नाटक पुलिस काम पर लग गई है और उस मोबाइल को जल्द से जल्द खोजने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन, बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो फोन के बारे में दावा कर रहे हैं, लेकिन किसी तरह की मदद नहीं कर पा रहे हैं। इस दौरान पुलिस ने अस्पताल प्रशासन से भी पूछताछ की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *