Strongest girl in the world 2020 : 7 साल की बच्ची ने वेटलिफ्टिंग में उठाया 80 किलोग्राम वजन

Strongest girl in the world : देश में कई ऐेसे जिम हैं जहां पर 18 साल से कम उम्र के बच्चों की आने की इजाजत नहीं दी जाती हैं. अब ऐसे में जिम में वेट लिफ्टिंग की बात के बारे में तो सोचा भी नहीं जा सकता है. यहीं वजह है कि हमें कम उम्र के बच्चें वेट लिफ्टिंग में बहुत ही कम दिखाई देते हैं. वहीं विदेशों के जिम में छोटे बच्चों के वेटलिफ्टिंग कंपटीशन होते हैं. ऐसे ही एक कंपटीशन में 7 साल की बच्ची के वेटलिफ्टिंग के चर्चे इन दिनों सोशल मीडिया में छाए हुए हैं.

जहां एक 7 साल की बच्ची ने वेट लिफ्टिंग प्रतियोगिता में लोगों को हैरान कर दिया. कनाडा की लिटिल रोरी वैन ने डेड लिफ्टिंग प्रतियोगिता में 80 किग्रा वजन उठाया. जबकि स्नैच वेटलिफ्टिंग में 32 किग्रा वजन (Strongest girl in the world) उठाकर पूरी दुनिया की ध्यान अपनी तरफ खीचा. सोशल मीडिया में लोग उनके इस कारनामे की प्रशंसा कर रहे हैं. इतना ज्यादा वजन उठाने पर उनका नियंत्रण नहीं खोता है. रोरी ने अपनी ट्रेनिंग 5 साल की उम्र से ही शुरू कर दी थी.

Strongest girl in the world : रोजाना 4 घंटे तक करती हैं मेहनत

उन्होंने पिछले सप्ताह अंडर-11 और अंडर-13 में 30 किलोग्राम उठाया था. इस राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भी उन्हें विजेता घोषित किया गया था. रोरी के पिता कैवन का कहना है कि उनकी बेटी ने उनका नाम रौशन किया है. रोरी ने 7 साल की उम्र में दुनिया की सबसे मजबूत महिला होने का खिताब अपने नाम कर लिया है. कैवन ने ये भी बताया कि रोरी रोजाना 4 घंटे तक वेटलिफ्टिंग के लिए मेहनत करती हैं.

डेलीमेल ने लिखा है कि रोरी के हाथ में भले ही नकली टैटू बना हुआ है. लेकिन उनकी मेहनत किसी भी प्रोफेशनल वेटलिफ्टिंग एथिलीट ने कम नहीं है. जिमनास्टिक के लिए एक सप्ताह में 9 से 15 घंटों तक मेहनत करती हैं.

रोरी ने अपनी इस उपलब्धि पर कहा कि उन्हें मजबूत होना पसंद है, वो जो कुछ भी कोशिश करती हैं, उसमें बेहतर काम करती हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *