जानिए क्यों सरकार ने 3000 CISF पदों को समाप्त करने का फैसला किया है, प्राइवेट कंपनियां तैनात करेंगी गार्ड

cisf post

लखनऊ: जब भी आप एयरपोर्ट जाते हैं तो वहां पर आपको कड़ी सुरक्षा मिलती है। ये सुरक्षा देते हैं CISF के जवान। आपकी चेकिंग से लेकर अन्य सुरक्षा में CISF के जवान एयरपोर्ट पर तैनात मिलते हैं। लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि केंद्र सरकार ने भारतीय एयरपोर्ट की सुरक्षा में बड़ा बदलाव किया है और 3 हज़ार से ज़्यादा CISF के पदों को खत्म करने का फैसला किया है। हालांकि अधिकारी ने ये बात साफ की है एयरपोर्ट पर CISF पहले की तरह अपनी सेवाएं देती रहेगी। नगर विमानन मंत्रालय और गृह मंत्रालय ने 2018-19 में पूरे देश में 50 एयरपोर्ट पर असैन्य सुविधा लागू की थी।

3049 CISF के पदों को समाप्त किया गया

जानकारी के मुताबिक CISF के 3049 पदों को विमानन सुरक्षा पदों को खत्म करने का फैसला लिया गया है। अब एयरपोर्ट पर CISF के खाली किए गए पदों की जगह पर 1924 निजी सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया जाएगा। एयरपोर्ट यात्रियों की चेकिंग, स्कैनिंग स्मार्ट तकनीक से की जाएगी।

3 हज़ार पद खाली कि जाने के बाद भी 1900 नई नौकरियां पैदा होंगी। एक अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार नए सुरक्षा ढ़ांचे से 1900 से ज़्यादा नौकरियां पैदा होंगी।

CISF के पदों को हटाने से सरकार को होगी बचत

इन पदों के खत्म किए जाने पर सरकार का कहना है कि इससे खर्च कम होगा। जहां पर हालात संवेदनशील नहीं हैं वहां सशस्त्र CISF जवानों की ज़रुरत नहीं है। ये काम निजी सुरक्षाकर्मी भी कर सकते हैं। हर जगह निगरानी सीसीटीवी कैमरे से की जाएगी। जो निजी सुरक्षाकर्मी और उनके तैनात करने वाली कंपनियां होंगी इनको मंजूरी BSF देगा। अभी की बात करें तो दिल्ली, मुम्बई के साथ अन्य एयरपोर्ट पर गैंरसंवेदनशील ड्यूटी के लिए निजी सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है।