कानून बना कर राम-मंदिर निर्माण शुरू करे केंद्र सरकार –आरएसएस

बुधवार को एक प्रेस कांफ्रेस के दौरान आरएसएस के सह कार्यवाहक मनमोहन वैद्य ने कहा कि  “राम मंदिर राष्ट्र के गौरव और प्रतिष्ठा का मुद्दा है। भारत के पूर्व राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने व्यक्तिगत रूप से सोमनाथ मंदिर का दौरा किया था जिसे सरदार पटेल ने बनाया था। सरकार को कानून बना कर मंदिर निर्माण का कार्य शुरू कर देना चाहिए। मनमोहन वैद्य आरएसएस की अखिल भारतीय कार्यकारिणी समिति की बैठक में हिस्सा लेने मुम्बई आए थे.

Dr-Manmohan-Vaidya_independentnews
courtsey-Google images

वैद्य ने कहा कि  “यह मुद्दा हिन्दू-मुस्लिम या मंदिर और मस्जिद के बारे में नहीं है। अयोध्या पर आक्रमण करने के बाद बाबर के पास  बहुत सारी भूमि थी और कहीं भी एक मस्जिद बना सकता था। लेकिन उसने मंदिर को ध्वस्त कर दिया, जो पुरातत्त्वविदों द्वारा अध्ययन में साबित हुआ है। न्यायालयों ने भी कहा है कि मुस्लिम प्रार्थनाओं के लिए मस्जिद महत्वपूर्ण नहीं है। इस्लामी विद्वानों ने कहा है कि ऐसे मस्जिद जिन्हे आक्रमण कर कब्जा किया गया हो, वहां प्राथनाओं का कोई महत्व नहीं है।”

babri-masjid
courtsey-google images

बता दें कि आरएसएस की अखिल भारतीय कार्यकारिणी समिति की बैठक वर्ष में दो बार आयोजित की जाती है। एक बार मार्च में और दूसरी बार दिपावली से पहले। इस अखिल भारतीय कार्यकारिणी समिति की बैठक में करीब 350 समिति सदस्य शामिल होंगे.

वैद्य ने कहा कि “वर्तमान में, देश भर में 31,000 से अधिक स्थानों पर कुल 55,000 शाखाएं चल रही हैं। इनमें से 82% ग्रामीण इलाकों में चल रहीं हैं जबकि बाकी शहरी हिस्सों में चलाई जा रही हैं, इसके साथ ही  56,000 मंडलों का गठन किया है । प्रत्येक मंडल को 10 से 12 गांवों को जोड़ता है”.

RSS_independentnews
courtsey_Google images

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा की गई आलोचना के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में श्री वैद्य ने कहा, “कांग्रेस कई सालों से इस तरह का आरोप लगा रही है। उन्हें आरोप लगाने दो। सभी आलोचनाओं के बावजूद आरएसएस बढ़ रहा है। ”

वैद्य का कहना है कि “आरएसएस ने भारतीय (देसी) नस्ल गायों की सुरक्षा पर बहुत काम किया है। हमने देश भर में 1,500 से अधिक गौशालाओं का गठन किया है।“ उन्होंने कहा, “देश में आज के समय एकल परिवार संरचना भी चिंता का कारण है और यह बैठक ऐसे ही विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेगी”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *