Asim Arun IPS : वो IPS अधिकारी जो पिता से प्रेरणा लेकर पहले बना सुपर कॉप फिर योगी सरकार में तय किया मंत्री तक का सफर

Asim Arun IPS

Asim Arun IPS : IAS-IPS बनना जितना मुश्किल है, उससे कहीं ज्यादा मुश्किल अफसर बनकर अपनी एक अलग और ईमानदार पहचान बनाना है। UPSC परीक्षा की तैयारी करते वक्त हर कोई जनता की सेवा और अराजक तत्वों को समाज से उखाड़ फेंकने की भावना के साथ आगे बढ़ता है लेकिन अफसर बनने के बाद अक्सर लोगों की यह भावना या तो खत्म हो जाती है या फिर बदल जाती है।

आज हम आपको जिस शख्सियत के बारे में बताने जा रहे हैं उन्होंने न सिर्फ IPS बनकर एक बड़ी उपलब्धि हासिल की, बल्कि एक ईमानदार कर्तव्यनिष्ठ अफसर बनकर दिखाया। इस आईपीएस अधिकारी का नाम असीम अरुण है. असीम अरुण ने ना सिर्फ एक सुपर कॉप के तौर पर काम किया बल्कि यूपी की योगी सरकार 2.0 में राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर मंत्री पद की जिम्मेदारियों तक का सफर तय किया. एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया था कि बेहतर काम के लिए सिस्टम का अच्छा होना बहुत जरूरी होना चाहिए.

कौन हैं (Asim arun ips) असीम अरुण?

3 अक्‍टूबर 1970 को उत्तर प्रदेश के बदायूं में असीम अरुण का जन्म हुआ था। पिता श्रीराम अरुण भी एक IPS अफसर थे और यूपी के DGP के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं। वहीं असीम की मां शशि अरुण जानी-मानी लेखि‍का और समाजसेवि‍का हैं। असीम ने शुरुआती शिक्षा लखनऊ से ही प्राप्त की है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली से B.Sc की डिग्री ली। असीम का सपना भी अपने पिता की तरह एक IPS अफसर बनना का था। ऐसे में ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करनी शुरू कर दी।

मेहनत से पास की परीक्षा, सुपर कॉप बनकर उभरे

असीम ने सिविल सेवा परीक्षा के लिए जी तोड़ मेहनत की और कामयाबी हासिल की। उन्हें हमेशा अपने पिता और माता का मार्गदर्शन मिलता रहा जिसकी वजह से उन्हें ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ा। हालांकि तैयारी के दौरान उन्होंने कोई कमी नहीं छोड़ी। आगे चलकर उन्होंने ना सिर्फ परीक्षा पास की, बल्कि पुलिस विभाग में सुपर कॉप के रूप में काम करके दिखाया।

असीम अरुण हाथरस, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, आगरा, अलीगढ़ और गोरखपुर जनपदों में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। इसके बाद उन्होंने एटीएस में भी कार्यभार संभाला था। असीम क्राइम कंट्रोल स्पेशलिस्ट के तौर पर फेमस है। आतंकवादी सैफुल्ला के एनकाउंटर के बाद उन्हें यूपी पुलिस की रीढ़ माना जाने लगा। असीम देश की लगभग सभी सुरक्षा एजेंसियों की कमान संभाल चुके हैं। असीम पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के सुरक्षा दल में भी शामिल रह चुके हैं। वो SPG में प्रधानमंत्री की क्‍लोज़ प्रोटेक्‍शन टीम के हेड थे। असीम अरुण एक अच्छे कमांडो के तौर पर भी प्रसिद्ध हैं। उन्होंने CBI, NSG, SPG जैसी देश की प्रमुख सुरक्षा एजेंसियों में अपनी सेवाएं दी हैं।

हालांकि यूपी चुनाव 2022 से पहले असीम ने IPS की नौकरी को अलविदा कह दिया और राजनीति में आ गए। जिसके बाद उन्होंने BJP के टिकट पर कन्नौज सदर सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की। अब BJP ने उन्हें मंत्री पद की जिम्मेदारी सौंपी है।

बैच के सबसे होनहार IPS अफसर

यूपी कैडर के IPS अफसर असीम अरुण का नाम देश के जांबाज और चर्चित IPS अफसरों में शुमार है। अपने बैच के सबसे होनहार अफसर असीम अरुण 1994 में IPS के लिए सिलेक्ट हुए थे।

देश में पहली स्वॉट टीम के गठन का श्रेय भी असीम अरुण के ही नाम पर है। 2009 में उन्होंने अलीगढ़ में तैनाती के वक्त उन्होंने देश की पहली जनपद स्तरीय Special Weapons and Tactics ( SWAT) का गठन किया था। बता दें कि विशेष कमांडो और आधुनिक हथियारों से लैस ये स्वॉट टीम आतंकी या किसी गंभीर मामले से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहती है।