Aayushi Jain IAS : 2 साल नौकरी करने के बाद शुरू की यूपीएससी की तैयारी, असफलता मिलने पर भी नहीं मानी हार और बन गई IAS अधिकारी

Aayushi Jain IAS

Ayushi Jain IAS : कहते हैं कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती। निरंतर प्रयास ही आपको सफलता की तरफ आगे बढ़ाता है। सिविल सेवा की परीक्षा को लेकर भी ये बात लागू होती है। सही रणनीति के साथ लगातार कोशिश करते रहना ही इस परीक्षा में सफलता का राज है।

इस पोस्ट में आज हम जिस अभ्यर्थी की कहानी बताने जा रहे हैं, उनको भी कई कोशिशों के बाद सफलता मिली। इस आईएएस अधिकारी का नाम आयुषी जैन है. आयुषी जैन की कहानी ऐसे युवाओं के लिए प्रेरणा हो सकती है जो निरतंर प्रयास के बाद भी असफल हो जाते हैं.

कौन है (Ayushi Jain IAS) आयुषी जैन

आयुषी जैन मूल रूप से मध्य प्रदेश के विदिशा की रहने वाली है। आयुषी शुरू से ही ब्रिलिएंट स्टूडेंट रही है। आयुषी ने हाईस्कूल में 91.2 प्रतिशत और इंटरमीडिएट की परीक्षा में 90.4 फ़ीसदी अंक अर्जित किए हैं।

शुरुआती शिक्षा के बाद आयुषी ने भोपाल के ही एक कॉलेज से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। ग्रेजुएशन के बाद आयुषी को एक नौकरी मिल गई और जहां उन्होंने लगभग 2 साल काम किया। जॉब के दौरान ही आयुषी को सिविल सेवा में जाने की प्रेरणा मिली, जिसके बाद उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और UPSC की तैयारी में लग गईं।

गलतियों से सीख कर आगे बढ़ती रहीं

आयुषी ने नौकरी छोड़ने के बाद अपने आपको पूरी तरह से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में झोंक दिया। इस बीच 2017 में आयुषी ने जब अपना पहला UPSC अटेम्प्ट दिया तो उन्हें सफलता नहीं मिली। इस पर आयुषी कहती हैं कि उन्होंने पहले प्रयास में बहुत सारे सोर्स इकट्ठा कर लिए थे जिसकी वजह से वो परीक्षा के लिए सही तरह से रिवीजन नहीं कर पाईं और उनका क्वालीफाई नहीं हुआ।

पहले अटेम्प्ट की कमियों को दूर करते हुए जब आयुषी ने 2018 में अपना दूसरा प्रयास किया तो इस बार भी वो नाकाम रहीं। इस पर आयुषी बताती है कि उन्होंने मेंस के एग्जाम में सही ढंग से आंसर राइटिंग नहीं की थी, जिसकी वजह से वो परीक्षा में सफल नहीं हो पाईं।

तीसरे प्रयास में मिली यूपीएससी परीक्षा में सफलता

पहले और दूसरे अटेम्प्ट में असफलता के बाद आयुषी ने हार नहीं मानी और वो लगातार कोशिश करती रहीं। अपनी कमियों को दूर करते हुए उन्होंने 2019 में अपना तीसरा UPSC अटेम्प्ट दिया और इस बार कामयाबी उनके हाथ में थी। आयुषी ने अपने तीसरे प्रयास में ऑल इंडिया 41वीं रैंक हासिल की।

आयुषी का मानना है कि बिना सेल्फ स्टडी के UPSC की परीक्षा पास नहीं की जा सकती है। कोचिंग सिर्फ सही गाइडेंस के लिए ज्वॉइन की जाती है। मेहनत आपको खुद ही करनी पड़ती है। आयुषी कहती हैं कि प्रैक्टिस ही आपको परफेक्ट बनाती है, तो लगातार प्रैक्टिस करते रहना चाहिए।