Devanand Telgote UPSC : UPSC परीक्षा की तैयारी के दौरान हुआ था कोरोना, दोस्तों ने 1 करोड़ का चंदा जमा कर बचाई थी जान, प्रीलिम्स और मेन्स की परीक्षा पास कर दिया इंटरव्यू

Devanand Telgote UPSC : हमारे जीवन में कभी कभी कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती हैं जिन पर यकीन कर पाना थोड़ा सा मुश्किल होता है। ऐसा ही कुछ देवानंद के साथ भी हुआ था। कोरोना से संक्रमित होने के बाद एक समय को तो ऐसा लगा था कि उनका बच पाना ही मुश्किल है, लेकिन ऊपरवाले का करिश्मा तो देखिए। उन्होंने कोरोना से जंग भी जीत और उसके बाद UPSC इंटरव्यू भी दिया। आइये जानते हैं उनकी संघर्ष की कहानी को।

Devanand Telgote UPSC : UPSC परीक्षा की तैयारी के दौरान हुआ था कोरोना, दोस्तों ने 1 करोड़ का चंदा जमा कर बचाई थी जान, प्रीलिम्स और मेन्स की परीक्षा पास कर दिया इंटरव्यू 1

तेलगोटे महाराष्ट्र राज्य के अकोला के निवासी हैं। सिविल सेवा परीक्षा को पास करना इनका सपना है। पिछले साल भी इन्होंने UPSC मेंस क्वालीफाई कर लिया था और अगस्त में इनको इंटरव्यू देना था मगर फिर इंटरव्यू होने से पहले ही कोरोना ने इनको अपनी चपेट में ले लिया और इंटरव्यू पैनल के पास जाने के बजाए इनको अस्पताल में भर्ती होने जाना पड़ा। इन्होंने कई अस्पताल और डॉक्टर से अपना इलाज करवाया मगर कोई लाभ नहीं हुआ। फिर इनको इनका मार्गदर्शन करने वाले भागवत ने सलाह दी और एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

Devanand Telgote UPSC : UPSC परीक्षा की तैयारी के दौरान हुआ था कोरोना, दोस्तों ने 1 करोड़ का चंदा जमा कर बचाई थी जान, प्रीलिम्स और मेन्स की परीक्षा पास कर दिया इंटरव्यू 2

उनके परिवार ने बताया कि उनके फेफड़ों पर बहुत बुरा असर पड़ा था। उनके फेफड़े इतने खराब हो गए थे कि उनके फेफड़ों को ट्रांसप्लांट की बात चल रही थी। उनके फेफड़े का करीब 80 प्रतिशत हिस्सा खराब हो गया था। लेकिन फिर विशेषज्ञ डॉक्टर संदीप अटवार ने अपनी टीम के साथ मिलकर उन्हें 4 महीनों तक आईसीयू (CMO) पर रखा था।

देवानंद को हवाई एम्बुलेंस की मदद से 15 मई को केआईएमएस में भर्ती करवाया गया। उनकी हालत हद से ज्यादा खराब थी इसी की वजह वजह से उन्हें इसीएमो पर रखा गया था। उनको बचाने के लिए पैसे की भी बहुत ज्यादा जरूरत थी। इसीलिए उनके रिश्तेदारों और उनके दोस्तों ने उनके इलाज के लिए 1 करोड़ रुपये की व्यवस्था की। फिर धीरे धीरे उनकी हालत में सुधार होने लगा और वो ठीक होते गए। इसके बाद एक बार फिर देवानंद इंटरव्यू देने के लिए तैयार हुए। उन्होंने पहले कोरोना से जंग जीती और अपने सपने को साकार किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *