Trishala Singh IES : माता पिता के सपनों को पूरा करने के लिए घर से ही की यूपीएससी परीक्षा की तैयारी, बनीं IES अधिकारी

Trishala Singh IES

Trishala Singh IES : यूपीएससी परीक्षा में ऐसा माना जाता है कि अच्छी कोचिंग के माध्यम से ही सफलता हासिल की जा सकती है. लेकिन आज हम आपको जिस आईएएस अधिकारी के बारे में बताने जा रहे हैं उन्होंने बुनियादी सुविधाओं के बाद भी एक छोटे से गांव से निकलकर यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा को पास कर सफलता हासिल की. यही नहीं उन्होंने इस परीक्षा के लिए किसी भी तरह की कोचिंग या अन्य साधनों का सहारा ना लेते हुए यूपीएससी परीक्षा में टॉप रैंक हासिल की.

इस आईएएस अधिकारी का नाम त्रिशला सिंह है. उनकी सफलता की कहानी ऐसे युवाओं को जरूर पढ़नी चाहिए जो छोटे गांव या ऐसी जगहों से आते हैं जहां बुनियादी सुविधाएं नहीं पहुंच पाती है. आइए जानते हैं छोटे से गांव से निकलकर उन्होंने कैसे यूपीएससी जैसी परीक्षा का सफर तय किया

कौन हैं (Trishala Singh IES) त्रिशला सिंह

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जनपद में नजीबाबाद के गांव तिसोतरा की रहने वाली त्रिशला एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती हैं. उनके पिता का नाम डॉ कुंवर सिंह है. वहीं उनकी मां का नाम तृप्ता सिंह है. उनके पिता डीएवी कॉलेज के कॉमर्स विभाग में प्रोफेसर के तौर पर कार्यरत हैं. वहीं मां डीएवी इंटरमीडिएट कॉलेज में अध्यापिका है. त्रिशला का एक शिक्षित परिवार से आती हैं इसका असर उनकी पढ़ाई पर साफ देखने को मिला. उन्होंने अपनी शुरूआती पढ़ाई बिजनौर से पूरी की. त्रिशला ने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा में भी अच्छे अंक हासिल किए थे.

उन्होंने इंटरमीडिएट में पूरे जिले में टॉप किया था. बेसिक शिक्षा पूरी करने के बाद वो आगे की पढ़ाई के लिए दिल्ली आ गई. यहां उन्होंने श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीए ऑनर्स अर्थशास्त्र में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की. ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने एमए अर्थशास्त्र दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में पूरा किया. हालांकि इस दौरान ही उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करना शुरू कर दिया था. एम.ए. की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने अमेरिकन एक्सप्रेस कंपनी काम करना भी शुरू कर दिया था. अच्छी खासी नौकरी के साथ ही उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी.

इंटरनेट की मदद से की यूपीएससी परीक्षा की तैयारी

त्रिशला सिंह ने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी घर पर ही रहकर की. उन्होंने किसी भी तरह की कोचिंग का सहारा नहीं लिया. वो कहती हैं इंटरनेट के इस दौर में आपके पास जानकारी का खजाना है. बस जरूरत है तो आप इसे किस तरह से इस्तेमाल करते हैं. अपनी तैयारी के बारे में वो बताती हैं कि सबसे पहले तो उन्होंने इस परीक्षा के सिलेबस और पैटर्न को अच्छी तरह समझ लिया.

इसके बाद उन्होंने इंटरनेट में यूट्यूब पर 2 सप्ताह तक अच्छे अच्छे एजूकेशन चैनलों को चुनकर पढ़ाई शूरू किया. जनरल नॉलेज के लिए उन्होंने न्यूजपेपर और टीवी की मदद से खुद को अपडेट रखा. वहीं मॉक इंटरव्यू की तैयारी भी उन्होंने पहले तो घर से ही की फिर कुछ संस्थानों से मॉक इंटरव्यू की प्रैक्टिस की और सफलता हासिल की.

दूसरी रैंक हासिल कर बनीं आईईएस अधिकारी

कड़ी मेहनत और आत्मविश्वास की बदौलत त्रिशला ने यूपीएससी परीक्षा मेंं पहले ही प्रयास में सफलता हासिल कर ली. इस परीक्षा में उन्होंने दूसरी रैंक हासिल की.

उनकी इस सफलता से ना सिर्फ उनका परिवार खुशी मना रहा है. बल्कि उनके गांव के लोग भी बेटी की सफलता में गौरवान्वित महसूस कर रहे हैंं.