Abhishek Shukla IAS : रेलवे कर्मचारी के बेटे ने पूरा किया पिता का सपना, यूपीएससी परीक्षा में 50वीं रैंक हासिल कर बना IAS अधिकारी

Abhishek Shukla IAS

कहते हैं ‘जहां चाह है, वहां राह है’। इसी तरह IAS बनने की चाह लिए हर साल लाखों अभ्यर्थी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की राह पर निकल पड़ते हैं लेकिन कामयाबी उन्ही चंद लोगों को मिलती हैं, जिनमें उसे हासिल कर पाने का जुनून और जज्बा होता है।

आज हम आपको जिस आईएएस अधिकारी के बारे मे बताने जा रहे हैं उनका नाम अभिषेक शुक्ला है. उन्होंने देश की सबसे कठिन परीक्षा को बिना किसी कोचिंग की मदद के सफलता हासिल की. अभिषेक की कहानी ऐसे युवाओं के लिए प्रेरणा हो सकती है जो यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करना चाहते हैं लेकिन उनके पास समय की कमी है. उन्होंने अपने बुलंद हौसलों की बदौलत कामयाबी हासिल की है। आइए जानते हैं अभिषेक ने कैसे देश की सबसे कठिन परीक्षा में सफलता हासिल की.

कौन है (Abhishek Shukla IAS) आईएएस अभिषेक शुक्ला

अभिषेक शुक्ला बनारस के रहने वाले हैं. एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले अभिषेक के पिता का नाम आनंद शुक्ला है जोकि रेलवे विभाग में काम करते हैं. वहीं मां कल्पना शुक्ला परिवार की जिम्मेदारियां संभालती हैं. उनकी शुरुआती पढ़ाई टूंडला के क्राइस्ट द किंग हाईस्कूल से पूरी हुई. इसके बाद उन्होंने सेंट जोसेफ कॉलेज प्रयागराज से इंटर की परीक्षा पास की. बचपन से ही पढ़ाई में कुशाग्र बुद्धि के होने की वजह से उन्होंने हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा अच्छे अंको के साथ पास की.

बता दें कि दोनों ही परीक्षाओं में अभिषेक ने अपने जिले में टॉप किया था. बेसिक शिक्षा पूरी करने के बाद अभिषेक ने IIT से इंजीनियरिंग करने का विचार किया. इसके बाद IIT दिल्ली से उन्होंने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में B.Tech किया. B.Tech के बाद अभिषेक ने एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया में जूनियर एक्जीक्यूटिव इलेक्ट्रिकल के पद पर नौकरी भी की. इसी दौरान अभिषेक की रूचि संघ लोक सेवा आयोग की तरफ हुई और उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी.जिसके बाद उन्हें 2020 में सफलता मिली और इंडियन इंफॉर्मेशन सर्विसेज में उनका चयन हो गया। अभिषेक इन दिनों दिल्ली के IIMC में ट्रेनिंग पर हैं।

हमेशा से रहे मेधावी छात्र

अभिषेक शुक्ला के पिता आनंद शुक्ला नार्थ सेंट्रल रेलवे के प्रयागराज डिवीजन में चीफ कंट्रोलर इंचार्ज के पद पर कार्यरत हैं। उनका कहना है कि अभिषेक शुरूआत से मेधावी रहे हैं। उन्हें कभी पढ़ाई के लिए कहना नहीं पड़ा और बिना कोचिंग के सेल्फ स्टडी के दम पर उन्होंने ये मुकाम हासिल किया है।

पिता के मुताबिक 2010 में अभिषेक को किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना की स्कालरशिप भी मिल चुकी है। इसके अलावा अभिषेक राष्ट्रीय प्रतिभा खोज छात्रवृत्ति भी हासिल कर चुके हैं।

जिंदगी का सबसे बड़ा तोहफा दिया

अभिषेक शुक्ला ने बेशक एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। अपने बच्चे की सफलता पर परिवार वाले भी खुशी से झूम रहे है। घर में अभिषेक की मां बेटे की सफलता पर गर्व महसूस कर रही हैं।अभिषेक की छोटी बहन प्रतिष्ठा शुक्ला ने लॉ की पढ़ाई की है और वकालत शुरु कर रही हैं। उन्हें भी अपने भाई की कामयाबी पर बेहद नाज है। प्रतिष्ठा का कहना है कि उनके भाई ने उन्हें जिंदगी का सबसे बड़ा तोहफा दिया है।