सहकारी समिति में 8 हजार की नौकरी करने वाले शख्स के घर निकली करोड़ों की संपत्ति, संपति जब्त

dewas

मध्य प्रदेश के उज्जैन में इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) टीम ने एक सहकारी समिति के सेल्समैन के घर से करोड़ों की संपति जब्त की है. इस मामले में विभागीय अधिकारियों ने आरोपी के घर से 47 बीघा जमीन के कागज, गांव में चार मकान, एक ट्रैक्टर, सोने चांदी के जेवरात के साथ ही बैंक खाते और LIC सहित अन्य दस्तावेज बरामद कर जब्त कर लिए हैं. बताया जा रहा है कि ये संपत्ति करीब 3 करोड़ रुपए से भी अधिक की है.

बताया जा रहा जिस सेल्समैन के घर से पुलिस ने करोड़ों की संपत्ति जब्त की है उसका नाम गोविंग बागवान है. वो देवास का रहने वाला है. जहां कन्नौद में EOW की टीम ने आरोपी के घर छापामारी की . इस छापामारी के दौरान सेल्समैन की बढ़ी कमाई को देखकर अधिकारी हैरान रह गए. बतातें चलें कि आरोपी साल 1993 में उसने सेल्समैन का काम शुरू किया था. उस दौरान उसे 600 रुपए मासिक वेतन मिलता था. जोकि फिलहाल 8 हजार रुपए तक पहुंच गया. आसपास के लोग और पुलिस समेत अन्य अधिकारियों ने जब करोड़ों की संपत्ति देखी तो हैरान रह गई. आखिर 8 हजार रुपए कमाने वाले शख्स के पास करोड़ों की संपत्ति कैसे आ गई ?

बेटों के नाम खरीदी जमीन, बदला पिता का नाम

EOW के DSP अजय कैथवास ने बताया उक्त जमीन की खरीदी कुछ साल पहले ही की गई है उस समय इसकी कीमत करीब 20-25 लाख रुपए प्रति बीघा थी. आरोपी गोविंग बागवान ने अपने दो बेटों के दस्तावेजों में हेरफेर भी कर रखा है और उनके पिता के रूप में अपने ही बड़े भाई का नाम लिखवाया है.

आरोपी इससे पहले किसानों के कर्ज के नाम पर भी धोखाधड़ी कर चुका है और कन्नौद थाने में प्रकरण दर्ज हुआ था. बता दें कि इस मामले में वह जेल भी जा चुका है.